HomeGapshap

Shayari In Hindi – आशिकों की शायरी हिंदी में

Like Tweet Pin it Share Share Email

Shayari In Hindi – आशिकों की शायरी

तुम खेलो खेल, हम खेल देखेंगे

तुम्हारे लिए हम हर ज़ख्म सह लेंगे,

हर दर्द है मंज़ूर हमें

तुम्हारा हर सितम हम हंस कर सह लेंगे |

निगाहों नाज़ दिल की आवाज़ हो तुम

मैं तुम्हारा और मेरी हमराज़ हो तुम

मेरे दिल का सूना साज हो तुम

मेरे इस दिल की सिसकती आवाज़ हो तुम

Shayari In Hindi – आशिकों की शायरी

कयामत है तो तेरा आज दीदार हुआ , तुम मानो या न मानो में तुम्हारा हुआ

कल अगर नज़र मिले न मिले जानम , मगर में आज से तुम्हारा दीवाना हुआ |

Shayari In Hindi – आशिकों की शायरी

माना में तुम्हे पसंद नहीं जानू, तुम तो मेरी पसंद हो

यह भी ठीक है की मैं रहा हूँ बदकिस्मत,

मगर आज से तुम ही मेरी किस्मत हो

तख़्त भी बीके, ताज भी बिक गए,

बिक गयी बड़ी बड़ी सरमायादारी

और बड़े बड़े बादशाह

फिर क्यों दुनिया मुझे ताना देती है तेरे प्यार का

मैं अकेला थोड़ी हुआ हूँ प्यार में तबाह |

यह वक़्त की हेरा फेरी है, आज दुनिया तेरी है

गर तुम बाँहों में एक बार आ जायो तो इर यही दुनिया मेरी है

प्यार का यह खेल पुराना सही, मैं भी कोई नो सिखिया नहीं |

Shayari In Hindi – आशिकों की शायरी

मान तुम भी खिलाडी हो इस खेल के, मैं भी कोई नादान अनादी नहीं

जार जार, ज़र्रा ज़र्रा,महक रहा हैं तेरे जाम से

क्या ज़रूरत है पैमाने की, मुझे तो नशा है तेरे नाम से

दिल में बसा लो मुझे, अपनी आँखों के काज़ल की तरह,

मैं तुम्हारा दीवाना हूँ, पैरों में जगह दे दो पायल की तरह

चेहरा भले छुपा लो तुम अपना, जज्बात नहीं छिपा पाओगी

मेरी एक आवाज़ पर देखना तुम, दौड़ी चली आओगी

सुहाने सपनो की तरह मैंने चाह तुम्हे अपनों की तरह

तुमने मुझे कहा बेवफा, किसी पराये सपने के तरह

मिला था जब साथ तुम्हारा, तो मैं होश खो बैठा था जानम

पाँव भी जमीं पर नहीं थे मेरे, जब तेरा पयार पाया सनम

मैंने तुम्हे अपना अपना माना, तुमने मुझे पराया समझ लिया सनम

तुमने करके बेवफाई, ख़ाक में मिला दिया मेरा प्यार सनम

दुनिया की इस महफ़िल में तुम हुस्न की सरकार हो

में तो सिर्फ दिल जला हूँ, तुम तो मेरे इश्क में बीमार हो

दर्दे दिल की दवा यहाँ कैसे मिलेगी

दिलजला हूँ, मेरी महफ़िल में तुम्हे वफ़ा कैसे मिलेगी

Comments (0)

Leave a Reply