HomeHindi News

Fake Coin – 10 रुपए के दोनों सिक्के ओरिजिनल – RBI ने कहा

Like Tweet Pin it Share Share Email

Fake Coin: 10 रुपए के दोनों सिक्के ओरिजिनल हैं – RBI ने एक प्रेस नोट जारी कर जानकारी दी है की 10 रूपए के दोनों सिक्के ओरिजिनल है |नोटबंदी की मार के बीच व्यापारियों में यह अफवाह फैली हुई है की 10 रूपए के 2 सिक्के बाज़ार में चल रहे है उसमे एक सिक्का डुप्लीकेट है जिसके कारण व्यापारी उन्हें लेने से कतरा रहा है, एक तो वैसे ही अचानक नोटबंदी ने व्यापारियों एवं आम जनता की कमर तोड़ दी है, ऊपर से बाज़ार में चलायमान 10 रूपए के सिक्के डुप्लीकेट होने की खबर ने लोगों को असमंजस में डाल रखा है | कुछ व्यापारी 10 रूपए के सिक्कों को देख कर ले रहे है| जबकि दोनों ही सिक्के RBI के अनुसार ओरिजिनल है |

Fake Coin : ज्ञात रहे की 8 नवम्बर से भारत में 500 रूपए और 1000 रूपए का नोट लीगल टेंडर नहीं रहे है, प्रधानमंत्री के आदेश के बाद इन दोनों नोटों की कोई अहमियत नहीं रह गयी है, और जिनके पास यह नोट है उन्हें 30 दिसम्बर २०१६ तक जमा करने का आदेश है, उसके बाद यह नोट ३१ मार्च २०१७ तक ख़ास अनुरोध या कागज़ी कार्यवाही के बाद ही बदले जा सकेंगे | यदि किसी के पास यह दोनों नोट हैं तो वह तुरंत ही इन्हें अपने बैंक में जाकर बदलवा ले | समय सीमा गुजर जाने के बाद यह सिर्फ आपके पास किसी कागज़ के टुकड़े के सामान है |

प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने अपने भाषण में कहा था लोगो के पास 500 और 1000 की नोट की शक्ल में बहूत सा काला धन है जिसे देश हित में बाहर लाना आवश्यक है | और इससे आतंकवाद, नक्सलवाद, और गरीबी से लड़ने में मदद मिलेगी | और लोग इस शुभ काम में सरकार का साथ दें |

लोगों ने प्रधानमंत्री के इस निर्णय को सर आँखों पर लिया | परन्तु नोट बदलवाने में जिस प्रकार की असुविधा हुई उससे 60 प्रतिशत जनता ने इस निर्णय को जनता को परेशान करने वाला बताया | लोग हफ्तों बैंकों के सामने लम्बी लम्बी लाइन लगाकर खड़े हुए है और परेशान हो रहे है , आज यह पोस्ट लिखे जाने तक लाइन में खड़े खड़े 70 लोगों की हालत बिगड़ने से मौत हो चुकी है | बीमार, बुजुर्ग, माँ, बहन, बीवी,सब लोग लाइन में धक्के खा रहे है और साथ ही पुलिस के डंडे भी |

Fake Coin : बाज़ार में पिछले दो सप्ताह से नोटों की कमी के कारण व्यापार जगत को भारी हानि उठानी पड़ी है, और अभी तक बाज़ार के रफ़्तार पटरी पर नहीं आयी है, देश का किसान परेशान है, क्यूंकि उसे बुवाई करनी है बीज की उसे खरीददारी करनी है मगर उसके पास नए नोट नहीं है, और पुराने नोट कोई ले नहीं रहा, हालाँकि कल ही सरकार ने आदेश दिया है की किसान सरकारी भंडारों से पुराने नोटों से बीज प्राप्त कर सकते है, परन्तु किसानो की तादाद ज्यादा है और सरकारी भंडारों की तादात बहूत कम इसलिए वहां पर भी भीड़ और लाइन में किसान परेशान है अगर समय रहते खेतों में रबी की फसल को नहीं बोया जा सका तो निकट भविष्य में भारत में गेहूं की किल्लत हो जाएगी और दाम आस्मां को पहुच जायेंगे | जिससे महगाई और ज्यादा बढ़ जाएगी जिससे निकट भविष्य में भारत की जनता को खाने पीने की चीजों की भरी किल्लत का सामना कर पड़ सकता है |

Comments (0)

Leave a Reply