HomeEntertainment 0 views

Dangal Movie Review in Hindi -‘दंगल’ फिल्म समीक्षा

Dangal Movie Review in Hindi -‘दंगल’ फिल्म समीक्षा
Like Tweet Pin it Share Share Email

Dangal Movie Review-‘दंगल’ फिल्म समीक्षा

Dangal Movie Review- मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान की नयी मूवी “दंगल” वाकई एक जबरदस्त मूवी साबित हुई है दंगल एक प्रकार से शिक्षाप्रद मूवी है जो हमें यह सिखाती है कि बेटा और बेटी दोनों ही समान होते है और दोनों ही माँ-बाप का नाम रोशन कर सकते है और इस सोच को साबित भी किया गया |

Dangal Movie की कहानी : दंगल की कहानी एक सच्ची कहानी पर आधारित है, एक ऐसे बाप की कहानी जिसने अपनी बेटियों को मर्दों से लड़ाने का सपना देखा और उसे पूरा भी किया | हमारे समाज में इतनी हिम्मत का काम करना तो दूर, सोचना भी गुनाह समझा जाता है | मगर उसी समाज का एक शक्श ऐसा सोचता भी है और उसे पूरा भी करता है | दंगल एक ऐसे बाप की कहानी जो देश के लिए अपने समय में पहलवान होते हुए गोल्ड मैडल नहीं जीत सका जबकि गोल्ड मैडल जीतना उसका सबसे बड़ा सपना है | ज़ाहिर सी बात है जब एक बाप खुद अपने सपने पुरे नहीं कर पाता तो वो उम्मीद करता है की उसका बेटा ये काम करे जो वो खुद न कर सका | मगर इस कहानी में एक ट्विस्ट यह भी है की महावीर पहलवान के कोई बेटा नहीं है उसके सिर्फ चार बेटिया हैं | अब एक बाप यह तय कर लेता है की बेटा ही क्यूं बेटियां भी तो गोल्ड मैडल ला सकती है और उसने अपनी बेटियों को ही पहलवान बना दिया | जाहिर सी बात है जब कोई समाज की सोच से परे कुछ करने की सोचता है तो समाज उसे भला बुरा भी कहता है हुआ भी ऐसा ही| लोगों ने उसे ताने दिए दिए जिसके लिए समाज जाना भी जाता है | एक लड़की को लड़के से लडवाना जबकि प्राकृतिक तौर पर दोनों के शरीर की बनावट में बहूत अंतर है, एक शरीर कोमल और कामुक होता होता है तो दूसरा ताकतवर और कठोर, कुश्ती में एक प्रकार से यह प्राकृतिक तौर पर बराबरी नहीं की जा सकती क्योंकि दोनों की बनावट भिन्न है | फिल्म में यह बात सबसे बड़ी और शिक्षाप्रद है की शारीरिक बनावट की कमजोरी आपके सपनो को कुचल नहीं सकती अपितु खुद को इतना ताकतवर बन जाना चाहिए की अपने सपनो को पूरा करने के बीच आने वाली हर दीवार को आप गिरा दे और अपनी मंजिल पर पहुच जाएँ | कहानी बहूत खुबसूरत है और इंस्पायर करती है | यह फिल्म देश की लड़कियों में एक नया विश्वास पैदा करेगी और उनमे जोश भर देगी |

amir khan body

Dangal Movie का स्क्रीन प्ले (full movie dangal) : दंगल मूवी का स्क्रीन प्ले शुरू से आखिर तक बहूत खूबसूरत है और दर्शकों को फिल्म के अंत तक स्क्रीन से नज़र हटाने नहीं देता है जो की फिल्म के लिए एक अच्छी बात है | सेकंड हाफ में स्क्रीन प्ले थोडा कमज़ोर दिखाई देता है उसका कारण यह है की कहानी को अच्छे से समझाते हुए दर्शकों को दिखाना मगर इसका पूरी फिल्म के स्क्रीन प्ले पर कोई फर्क नहीं पड़ता है दर्शक अंत तक फिल्म का आनंद लेते दिखाई दिए है |

Dangal Movie के गाने और डायलॉग : फिल्म में तीन गाने है, ” धाकड़ है ” गाना जो पहले ही हिट हॉट चूका बाकी के गाने भी अच्छे है, बैकग्राउंड म्यूजिक भी बेहतरीन है |

Dangal Movie का डायरेक्शन : दंगल मूवी को नितीश तिवारी ने डायरेक्ट किया है और उन्होंने अपने डायरेक्शन में फिल्म के साथ पूरा पूरा इन्साफ किया है, एक अच्छी कहानी को लोगो के सामने प्रस्तुत किया है और लोगों की भावनाओं का धयान रखते हुए उनके सामने बढ़िया स्टाइल में पेश किया है |

Dangal Movie में एक्टिंग : “क्या बात है ” अगर कोई एक्टिंग की समीक्षा करे तो वो यह शब्द ज़रूर कहेगा ” क्या बात है ” आमिर खान एक्टिंग के सरताज कहे जाते है और उन्होंने इस फिल्म में अपनी एक्टिंग से एक बार फिर लोगों को चौंका दिया है | उन्होंने शानदार अभिनय किया है और उसके लिए मेहनत भी बहूत की है फिल्म में उन्होंने एक जवान पहलवान और एक अधेड़ बाप का रोल किया है | सबको पता है उन्होंने पहले अधेड़ बाप का रोल करने के लिए अपने शरीर को मोटा किया ताकि वोह सच्चा अभिनय कर सके और फिर उन्होंने मेहनत करके उसी शरीर का वापस सुडोल बनाया और जवान पहलवान का रोल किया हालाँकि फिल्म में जवान पह्ल्वाल का रोल पहले है और अधेड़ बाप का रोल बाद में, लेकिन आमिर ने पहले अधेड़ बाप के सारे सीन शूट किये बाद में जवान किरदार को शूट किया गया है, जो की एक बड़ा रिस्क था क्यूंकि मोटापा आ जाने के बाद किसी आदमी का वापस अपनी पुराने लुक में आना बहूत कठिन होता है मगर आमिर खान ने फिल्म में भी और असल जिंदगी में भी यह साबित किया की सपने बड़े होते है उन्हें पूरा करने के लिए जिद की ज़रूरत होती है |

यह भी पढ़ें : वज़ह तुम हो फिल्म समीक्षा

Dangal Movie Review-ऐसा नहीं है की सिर्फ आमिर खान ने ही अच्छा रोल किया है फिल्म में सारे किरदार अपने अपने अभिनय के साथ इन्साफ करते हुए नज़र आये है ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार हमने पहले आमिर की ही फिल्म लगान देखि है ठीक वैसा ही इस फिल्म में देखने को मिला है | साक्षी तंवर जो की माँ की भूमिका में है उन्होंने अच्छा काम किया है, बेटी गीता का रोल निभाने वाली फ़ातिमा ने जबरदस्त और खूबसूरत रोल किया है | उनके छोटी बहन बबिता का रोल निभाने वाली सानिया मल्होत्रा भी फिल्म में आकर्षण का कारण रही है और चर्चा में है उन्होंने भी अपना रोल बहूत खूबसूरत निभाया है, यूं कहा जाए की फिल्म में सभी कलाकारों ने बेहतरीन काम किया है तो कोई बुरी बात नहीं है |

Dangal Movie की कामयाबी : कुछ लोग फिल्म दंगल को सलमान खान की मूवी सुलतान से समीक्षा कर कर रहे है जो की गलत है सलमान खान की सुलतान एक मसाला मूवी थी और आमिर की मूवी दंगल एक भावनाओं के जीत की कहानी है, दोनों का आधार कुश्ती है मगर दोनों के उद्देश्य और शिक्षाये अलग अलग है | एक एंटरटेनमेंट मूवी है तो दूसरी आर्ट मूवी की तरह है जो अपने अभिनय का लोहा मनवाती है और दोनों ही कामयाब मूवी है |

Dangal Movie Review और स्टार रेटिंग : आमिर खान की मूवी को रैंकिंग देना वैसे से बैमानी है क्यूंकि उनकी मेहनत और काम को नंबर देना कोई आसान काम नहीं है फिर भी दंगल को 5 में से 4 अंक दिए जा सकते है

Dangal Movie Review की कमाई : नोटबंदी के बावजूद थिएटर में काफी भीड़ थी मगर फिर भी इसका असर ज़रूर दिखाई देगा अच्छी फिल्म होने की वज़ह से फिल्म 300 करोड़ के आस पास का बिज़नस आसानी से कर सकती है | फिल्म के पुरे भारत में टैक्स फ्री होने की पूरी संभावना है |

Dangal Movie Review by : रईस खान

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *