HomeUncategorized

CBSE ने स्कूलों को दिए आदेश नहीं बेचें वर्दी और किताबे

Like Tweet Pin it Share Share Email

CBSE ने स्कूलों को दिए आदेश नहीं बेचें वर्दी और किताबे 

नयी दिल्ली : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने देश भर के स्कूलों को चेतावनी दी है की बच्चों को निजी प्रकाशकों की महंगी किताबें और वर्दी खरीदने के लिए मजबूर न करें | शिकायत मिलने पर होगी कार्यवाही |

सीबीएसई ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा की जो स्कूल परिसर में विद्यार्थियों को किताबें, यूनिफार्म, शूज और स्टेशनरी बेचते हुए पाए गए उन स्कूलों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी, इसके साथ ही स्कूल की मान्यता भी रद्द की जाएगी.

सीबीएसई बोर्ड ने जारी एक परामर्श में कहा की उससे जुड़े शिक्षण संसथान कोई व्यापारिक प्रतिष्ठान नहीं है. किसी भी स्कूल की तरफ से यदि स्कूल परिसर में महँगी किताबें और यूनिफार्म एवं अन्य सामग्रियां बेचना सीबीएसई के नियम के खिलाफ है. बोर्ड ने यह अधिसूचना अभिभावकों द्वारा शिकायतों पर जारी की है.

अभिभावकों ने की थी शिकायत की थी सीबीएसई पाठ्यक्रम से जुड़े स्कूल बच्चों पर जबरन महंगी और प्राइवेट प्रकाशकों के किताबें, चुनिन्दा दूकान से वर्दी, स्टेशनरी, शूज और अन्य सामग्रियां खरीदने का जोर डालते है. इसके बाद सीबीएसई ने इसका संज्ञान ली हुए, स्कूलों को एक पत्र लिखा है जिसके अनुसार उन्हें इस प्रकार की किसी भी गतिविधि में पाए जाने पर स्कूल पर कार्यवाही का प्रस्ताव है.

इस पत्र के अनुसार स्कूल अपने चुनिन्दा प्रकाशकों, या दुकानदार से स्कूल स्टेशनरी अथवा अन्य सामग्रियां खरीदने का जोर नहीं दे सकते |

 

Comments (0)

Leave a Reply