Hindi Blog Post Hindi News Social

Black Band Against moblynching- काली पट्टी बंधकर ईद मनाएंगे देशभर के मुस्लमान

Black Band Against moblynching : आज देश भर में ईद का त्यौहार मनाया जायेगा. खास बॉस यह है की देश के इतिहास में पहली बार सोशल मीडिया पर ऐसा कैम्पेन चलाया जा रहा है जिसके अनुसार अबकी बार ईद के नमाज़ सभी मुस्लमान काली पट्टी बांधकर पड़ेंगे.

moblynching : दरअसल बीते कुछ सालों से देश में भीड़ द्वारा कुछ निहत्थे लोगों तथा संप्रदाय विशेष के लोगों को निशाना बनाकर उनकी हत्या के मामले बढ़ रहे है. गुरवार को भी एक लोकल ट्रेन में जुनैद नाम के 16 वर्षीय बालक की भीड़ ने चाकुओं से हत्या कर दी थी. जुनैद और उसके साथियों पर धर्म विशेष का होने की वज़ह से गाली गलोच, भद्दी टिप्पणिया की गयी और चलती ट्रेन में उनके साथ मार पीट की गयी. उससे पहले राजस्थान में पहलू खान की भी हत्या गाय  के नाम पर गौरक्षकों ने कर दी, उसकी बाद जम्मू में एक गरीब परिवार के बुजुर्ग को भीड़ ने पीट पीट कर मार डाला. गुजरात में मरी हुयी गायों की खाल उतरने वाले दलितों को पीटा गया. आज ही बंगाल में 3 मुस्लिम युवकों को पशु चोरी के इलजाम लगा कर मार दिया गया.

उपरोक्त सभी घटनाएं मोदी सरकार के समय में अत्यधिक बढ़ गयी है. और जारी है, सरकार का इन पर किसी प्रकार का कोई अंकुश नहीं है, पीट पीट कर मार देने वाली भीड़ मोदी को अपना आदर्श मानती है और उन्हें सप्पोर्ट भी करती है. यह मोदी के वोह समर्थित दल के लोग होते है. जो भगवा कपडा गले में दाल कर कानून अपने हाथ में ले लेते है. और सरकार का इनपर कोई अंकुश नहीं है. हाल ही में कश्मीर में मरे गए अयूब पंडित की घटना का भी विरोध हो रहा है. भीड़ को कानून अपने हाथ में लेने का कोई अधिकार नहीं है.

चलती ट्रेन में धार्मिक उन्माद, एक की हत्या 3 घायल

moblynching : भीड़ द्वारा बढती हिंसा के खिलाफ शायर इमरान प्रताभगढ़ी ने इस देश के लिए खतरनाक बताया और moblynching के खिलाफ आवाज़ उठाई. उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट facebook और ट्विटर के ज़रिये भारत के मुसलमानों से आग्रह किया की वोह यह ईद की नमाज़ अपने हाथ पर काली पट्टी बंधकर पढ़ें और भीड़ द्वारा की जा रही हत्याओं का विरोध करें. उसके बाद क्या था. सोशल मीडिया पर यह खबर आग की तरह फ़ैल गयी और सभी मुसलमानों ने उनका साथ देने का मन बना लिया. #EidWithBlackBand
#ProtestAgainstMobLynching

इमरान ने कहा, ‘‘ ईद अल्लाह का तोहफा है, हम लोकतांत्रिक तरीके से moblynching का विरोध करेंगे। हम कोई धरना-प्रदर्शन नहीं करेंगे। हम सिर्फ नमाज के दौरान विरोध करेंगे। अगर अब इन घटनाओं का विरोध नहीं किया गया तो कल हम भी भीड़ का शिकार बन सकते हैं।’’ ‘यश भारती’ से सम्मानित किये जा चुके इमरान ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिये दुनिया में फैल चुके आह्वान का असर है कि रविवार को सऊदी अरब में सैकड़ों लोगों ने काली पट्टी बांधकर नमाज पढ़ी है। फेसबुक और ट्विटर पर पड़ी तस्वीरें इसकी गवाह हैं। यह हिन्दुस्तान की तहजीब और टूटते समाज को बचाने की छोटी सी कोशिश है।

moblynching : माइनारिटी एजुकेशन एण्ड इम्पॉवरमेंट मिशन (मीम) के उत्तर प्रदेश सचिव अब्दुल हन्नान ने बताया कि उनके संगठन ने देश की तमाम मस्जिदों के इमामों को फोन करके कहा है कि वे मुसलमानों से ईद की नमाज पढ़ते वक्त बाजू पर काली पट्टी बांधने को कहें। उन्होंने दावा किया कि इस मुहिम में लखनऊ स्थित प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान नदवतुल उलमा ने भी सहयोग का आश्वासन दिया है। हन्नान ने बताया कि उनके संगठन से जुड़े लोग इस संदेश को दूर-दूर तक फैला रहे हैं। कोशिश है कि इस विरोध को बड़े पैमाने पर सरकार के पास पहुंचाया जाए, ताकि भीड़ के हाथों मौतों का सिलसिला रोका जा सके। इस सिलसिले में फेसबुक पर अभियान चला रहे शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने कहा कि हमने युवाओं से अपील की है कि वे इन घटनाओं के विरोध में काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ें और अपनी तस्वीर खींचकर फेसबुक पर अपलोड करें।

इस खबर को देश बड़ी अखबार जनसत्ता, बी बी सी हिंदी, आजतक आदि मीडिया ने प्रमुखता से अपने पोर्टल पर जगह दी है.

Post Comment