HomeUncategorized

Bank Transaction Limit in Hindi – नोटबंदी के बाद बैंकों के नए नियम

Like Tweet Pin it Share Share Email

Bank Transaction Limit – नोटबंदी के बाद भारत की GDP को कोई खास नुक्सान नहीं हुआ तो आप खुश हो जाइये क्यूंकि भारत की विकास दर बढ़ रही है. और इसी ख़ुशी में अब आप बैंकों को ख़ुशी ख़ुशी पहले से ज्यादा सर्विस चार्ज और लेन देन करने पर ख़ुशी ख़ुशी अतिरिक्त चार्ज दे दीजिये. सभी बैंकों ने नोटबंदी के बाद Bank Transaction Limit का अपना नया नियम बना लिया है जिसमे आपको तय सीमा से अधिक बार कैश ट्रांजैक्शन करने पर अतिरिक्त शुल्क देना होगा. जिसमे आपको हर ट्रांजैक्शन पर 150 रूपए तक देने पड़ सकते है.

अर्थात नोटबंदी के वो 50 दिन, जिसमे आपने और हमने कठिनाइयों का जो सामना किया उसका हमें अब पुरूस्कार मिलने जा रहा है.

माननीय प्रधान मंत्री मोदी ने अच्छे दिनों का ख्वाब दिखा कर अचानक नोटबंदी की तो आपने बहूत ही संयम से उस कठिन समय को चुपचाप बर्दाश्त किया ताकि देश में जमा काला धन वापिस आ सके और आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो. हाँ कुछ लोग संयम नहीं रख सके और परलोक सुधार गए. उनसे यह कठिन समय सहा नहीं गया. नोटबंदी में उनकी परेशानी हमारी परेशानियों से ज्यादा बड़ी थी. और वोह न सह सके और उनकी जान चली गयी. कोई बात नहीं आपने देशभक्ति की खातिर नोटबंदी में अपने किसी को खोया होगा. और उसके लिए आपको वही सम्मान दिया जाना चाहिए जो सीमा की सुरक्षा करते हुए शहीद हुए सैनिक को दिया जाता है. आप इंतज़ार कीजिये काले धन की लड़ाई में जो लोग मर गए है शायद उनको भी शहीद का दर्ज़ा मिल जाए.

अब शहीद का दर्जा मिले या न मिले मगर नोटबंदी में आपके द्वारा रखे गए संयम का इनाम तो आपको मिल ही रहा है. और यह इनाम देने वाले और कोई नही बल्कि वही बैंक हैं जिनके सामने नोटबंदी में आपने कई घंटे लाइन में गुजार दिए. उस वक़्त आपको समय पर खाना या पानी न मिला हो मगर पुलिस के डंडे ज़रूर मिले थे. आपके इसी सब्र का इनाम अब आपको बैंक दे रहे है. आइये जानते है क्या पुरुकार आपको मिलने जा रहा है.

आम जनता को पुरुस्कृत करने के लिए सभी बैंकों ने अपने नए नियम लागू किये है जो इस प्रकार है.

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया : Bank Transaction Limit

नया नियम : 1 अप्रैल से बचत खाताधारकों एक महीने में सिर्फ 3 बार फ्री में पैसा जमा करने की आजादी होगी उसके बाद हर बार पैसा जमा करवाने व निकलवाने पर 50 रूपए सर्विस चार्ज और टेक्स दोनों लगेगा.
मिनिमम बैलेंस की सीमा बढ़ा दी गयी है, अब महानगरों में 5000 rupay, नगरों में 3000 रूपए और अर्धशहरी इलाकों में 2000 रूपए कम से कम आपको बैलेंस रखना होगा, इससे कम बैलेंस रहने पर आपसे 100 रूपए जुर्माना वसूला जायेगा.
एक महीने में दुसरे बैंक के एटीएम से 3 बार से ज्यादा बार पैसा निकालने पर 20 रूपए चार्ज देना होगा. और SBI के एटीएम से 5 बार से ज्यादा बार ट्रांजैक्शन करने पर हर बार 10 rupay चार्ज देना होगा.
यदि आप 1 लाख का मिनिमम बैलेंस मेन्टेन करने में सक्षम है तो आपको sbi के एटीएम से पैसे निकलने पर कोई शुल्क नहीं देना होगा. और दुसरे बैंकों के एटीएम से पैसा निकलने पर भी यदि एक लाख का मिनिमम बैलेंस मेन्टेन है तो कोई शुल्क नहीं देना होगा. (यानी अगर आप गरीब है तो आप बैंकों को पैसा दीजिये और और गरीब हो जाइये )
स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के खाताधारक महीने में 5 बार ट्रांजैक्शन कर सकते है उसके बाद हर ट्रांजैक्शन पर कम से कम 95 रुपए शुल्क देना होगा.
एक दिन में पैसा जमा करने की अधिकतम सीमा 50000 रूपए है इससे अधिक पैसा जमा करने पर प्रति 1000 रूपए पर 2.50 रूपए शुल्क देना होगा. और न्यूनतम शुल्क 95 रूपए है. (यानी अब पैसा जमा करने पर भी आपको पैसा देना होगा )
(सुझाव : नोटबंदी के दौरान जिस प्रकार नियमों में बार बार बदलाव कि गए उसी तर्ज़ पर बैंक Bank Transaction Limit ke अपने नियमों में फेर बदल कर सकते है, इसलिए आप अपने बैंक से बार बार अपडेट लेते रहिये )

HDFC Bank Transaction Limit:

चार बार से ज्यादा बार पैसा जमा करने या निकलने पर 150 रूपए चार्ज देना होगा.
होम ब्रांच में 2 लाख तक का ट्रांजैक्शन फ्री होगा उससे अधिक रूपए का ट्रांजैक्शन करने पर कम से कम 150 रूपए या प्रति 1000 पर 5 रूपए देने होंगे.
नॉन होम ब्रांच में ट्रांजैक्शन की अधिकतम सीमा 25000 रूपए है इससे अधिक ट्रांजैक्शन करने पर नॉन होम ब्रांच को कम से कम 150 रूपए या प्रति 1000 रूपए पर 5 रूपए देने होंगे.
ICICI बैंक ट्रांजैक्शन के नए नियम :

होम ब्रांच में 4 बार ट्रांजैक्शन फ्री होगा उसके बाद प्रति 1000 रूपए पर 5 रूपए शुल्क या न्यूनतम 150 रूपए शुल्क लगेगा.
नॉन होम ब्रांच पर पहली बार ट्रांजैक्शन फ्री होगा उसके बाद प्रति 1000 रूपए पर 5 रूपए शुल्क या न्यूनतम 150 रूपए शुल्क लगेगा.

AXIS बैंक ट्रांजैक्शन के नए नियम :

एक्सिस बैंक भी महीने में 4 ट्रांजैक्शन फ्री दे रहा है उसके बाद हर ट्रांजैक्शन पर 95 रूपए चार्ज लिया जायेगा.
एक दिन में अधिकतम 50000 रूपए जमा करा सकते है. उसके बाद प्रति 1000 रूपए पर 2.50 रूपए के हिसाब से चार्ज लगेगा. कम से कम 95 रूपए का शुल्क देना आवश्यक है.
अर्थात आप खुश हो जाइये हमारा देश विकास कर रहा है, अच्छे दिन भी आ रहे है. अपनी गाढ़ी कमाई का एक हिस्सा अब आप बैंकों को देने को तैयार हो जाइये. और हाँ अब यह मत सोचियेगा की हम बैंक से ट्रांजैक्शन ही नहीं करेंगे. यदि आपने सरकार के बैंक ट्रांजैक्शन के नए नियम नहीं पढ़ें है तो पढ़ लीजियेगा. क्यूंकि तय सीमा से अधिक का कोई भी लेन देन आप बिना बैंक के नहीं कर सकते, यदि आपने ऐसा किया तो आपको आयकर विभाग के सामने कठघरे में खड़ा होना पड़ जायेगा.

“हम तो यही कहेंगे देश की विकास दर बढ़ गयी है तो ख़ुशी ख़ुशी से अपनी गाढ़ी कमाई का एक हिस्सा सर्विस चार्ज के रूप में बैंकों को दे दीजिये ताकि आपकी दिए गए शुल्क से बैंक कर्मचरियों की तनख्वाह निकलती रहे. और जो  पैसा आपका जमा है, उस पर आपको वही पुराना ब्याज रहे ” तो खुश रहिये. और मुस्कुराते रहिये” चाहे आपकी मुस्कुराहट नकली ही क्यूं न हो |

यह भी पढ़ें : नोटबंदी के बाद वायरल जोक्स

Comments (0)

Leave a Reply